टीईटी पेपर लीक प्रकरण में एसटीएफ ने आरोपी को किया वांछित, इंस्पेक्टर को जानकारी नहीं

जिला पुलिस के भी खेल निराले हैं। टीईटी पेपर लीक प्रकरण, जिसने पूरे प्रदेश में भूचाल ला दिया, जैसे मामले को लेकर भी पुलिस गंभीर नहीं है। एसटीएफ ने सॉल्वर गिरोह के लिए जाली आधार व एडमिट कार्ड बनाने के मामले में जिस साइबर कैफै संचालक को वांछित किया, उसके बारे में जार्जटाउन पुलिस को जानकारी ही नहीं। जब इस संबंध में इंस्पेक्टर महेश सिंह से बात की गई तो उन्होंने अपने थाने में दर्ज मुकदमे में किसी के वांछित होने की जानकारी से साफ इंकार कर दिया।



28 नवंबर को टीईटी के दौरान जार्जटाउन में सॉल्वर गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए एसटीएफ ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। इस मामले में एसटीएफ प्रयागराज के एसआई रणेंद्र कुमार सिंह की ओर से जार्जटाउन थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया गया। तहरीर में यह भी बताया गया था कि गिरोह के सरगना चतुर्भुज ने पूछताछ में बताया है कि अल्लापुर के माली चौराहा निवासी साइबर कैफेसंचालक मोनू उर्फमन्नू फर्जी आधार व एडमिट कार्ड तैयार कर उसे उपलब्ध कराता है। सूत्रों का कहना है कि गिरोह का सहयोगी होने के नाते साइबर कैफे संचालक भी इस मामले में आरोपी हुआ और उसे वांछित भी किया गया।
पेपर लीक जैसे गंभीर मामले में भी पुलिस गंभीर नहीं
चौंकाने वाली बात यह है कि उसकी गिरफ्तारी छोड़िए, एफआईआर दर्ज होने के चार दिन बाद भी जार्जटाउन पुलिस इस बात की जानकारी से इंकार करती रही। जब जार्जटाउन इंस्पेक्टर महेश सिंह से इस बाबत पूछा गया तो उनका साफ कहना था कि उनके थाने में दर्ज मुकदमे में किसी के वांछित होने की जानकारी उन्हें नहीं है। बाद में तहरीर के बाबत सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि वह पूछकर बता पाएंगे लेकिन इसके बाद उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला। सवाल यह है कि  टीईटी पेपर लीक जैसे मामले को लेकर भी पुलिस ने मुकदमे को गंभीरता से क्यों नहीं लिया। जाली दस्तावेज तैयार करने जैसे गंभीर अपराध से संबंधित आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर कोई कदम क्यों नहीं उठाया।
सरगना की तलाश में दबिश
धूमनगंज में पकड़े गए सॉल्वर गिरोह सरगना सोनू व उसके साथियों सर्वजीत व बिट्टू कुमार की तलाश में दबिश जारी है। फिलहाल उनका कोई सुराग नहीं मिल सका है कि लेकिन धूमनगंज पुलिस उनकेहर संभावित ठिकानों पर छापेमारी में जुटी है। गौरतलब है कि झलवा स्थित सरोज देवी गर्ल्स कॉलेज परीक्षा केंद्र के बाहर से मूल अभ्यर्थी ललित वर्मा  व सॉल्वर रंजय को एसटीएफ व पुलिस ने गिरफ्तार किया था। उनसे पूछताछ में खुलासा हुआ था कि सॉल्वर जौनपुर निवासी सोनू ने बैठाए थे और बिटूट पहली पाली की परीक्षा में शमिल भी हो चुका है। इंस्पेक्टर तारकेश्वर राय ने बताया कि आरोपियों की तलाश जारी है। 

👇UPTET/CTET/SUPER TET, शिक्षक भर्तियों व अन्य भर्तियों हेतु नोट्स 👇